Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सड़क हादसे में सिसवा नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष उमेश पुरी की मौत, क्षेत्र में पसरा मातम

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

सड़क हादसे में सिसवा नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष उमेश पुरी की मौत, क्षेत्र में पसरा मातम

उमेश पुरी को सबसे कम उम्र में सिसवा नगर पंचायत के अध्यक्ष बनने का गौरव हासिल हुआ था।

सिसवा। नगर पालिका सिसवा बाजार निवासी पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष उमेश पुरी की सोमवार की दोपहर में घुघली थाना क्षेत्र के ग्राम पुरैना के पास एक भीषण सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। सूचना मिलते ही सिसवा नगर में शोक की लहर दौड़ गई।
ग्राम लालपुर थाना कोतवाली निवासी मनोज कुमार (25) और पूर्व चेयरमैन उमेश पुरी की बाइक की आमने-सामने टक्कर हो गई। जिसमें मनोज कुमार और लल्लन (60) घायल हो गए। वहीं मौके पर पूर्व चेयरमैन उमेश पुरी (54) की दर्दनाक मौत हो गई।
बताया जा रहा है कि पूर्व चेयरमैन महराजगंज से कुछ जरूरी काम निपटाकर वापस सिसवा घर के लिए लौट रहे थे।
महराजगंज जनपद के सिसवा बाजार निवासी उमेश पुरी को वर्ष 1995 में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता एवं सबसे कम उम्र में सिसवा नगर पंचायत के अध्यक्ष बनने का गौरव हासिल हुआ था। सोमवार को मार्ग दुर्घटना में उन्होंने अंतिम सांस लेकर शुभचिंतकों से अंतिम विदाई ली।
स्व: उमेश पुरी के निधन पर भाजपा नेता जितेंद्र बहादुर सिंह, रामेश्वर जायसवाल, व्यवसायी हरीराम भालोटिया, जय प्रकाश भालोटिया तथा अन्य तमाम सामाजिक संगठनों तथा भाजपा कार्यकर्ताओं ने शोक प्रकट करते हुए कहा कि उमेश छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के बैनर तले सामाजिक न्याय के लिए संघर्ष करते रहे।
इसी संघर्ष के बल पर वह वर्ष 1995 में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से एवं सबसे कम उम्र के उत्तर प्रदेश में सिसवा नगर पंचायत के अध्यक्ष चुने गए। अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के तमाम विरोध के बावजूद उन्होंने पांच साल का कार्यकाल पूरा किया था।
नगर पंचायत अध्यक्ष पद से हटाने के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह द्वारा भाजपा से अलग होकर बनाई गई पार्टी राष्ट्रीय क्रांति दल के वह प्रदेश अध्यक्ष रहे।
इसके उपरांत वह भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर अब तक वह भाजपा कार्यकर्ता के रूप में कार्य करते रहे।