Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

15 वर्षो से गरीबी की मार झेल रहे विध्याचल, पात्र होने पर भी नहीं मिल रहा आवास

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

चौक बाजार /महराजगंज: सरकार गरीबी दूर करने के लिए जीवन यापन के लिए रोटी, कपड़ा और मकान का बंदोबस्त कर रही है लेकिन आज भी पात्र लोगों को आवास मुहैया नहीं हो पा रहा है। इसका कारण है कि गांव में हो रही राजनीति, जोकि पात्र होते हुए भी आवास मुहैया नहीं हो पा रहा है। जिससे आज भी पात्र लोग त्रिपाल के सहारे जीने पर मजबूर हो रहे है।  ताजा मामला सदर ब्लाक के अंतर्गत ग्रामसभा कटहरा में देखने को अधिकतम मिल रहा है। यहां दर्जनों ऐसे पात्र लोग हैं जो आवास विहीन हैं। पात्रता सूची में नाम होने पर भी यह लोग आवास से आज तक वंचित रह गए हैं। जिले में बैठे अधिकारियों का ध्यान इन पर नहीं पड़ रहा है यही कारण है कि ग्राम सभा के विध्याचल आज 15 वर्षों से त्रिपाल के सहारे अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं। गांव के सेक्रेटरी और रोजगार सेवक की मिलीभगत से पीड़ित विंध्याचल को आवास से अपात्र कर दिया गया है। जबकि पीड़ित विंध्याचल यादव आवास के पात्र है लेकिन आवास नहीं मिल पा रहा है। सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट काट कर हो चुके है परेशान। विध्याचल के पास इतना रुपया नहीं हो पाता कि वह झोपड़ी तक भी डाल सकें। विध्याचल ग्राम सभा के कटहरा खास चौराहे पर चाय की छोटी सी दुकान चलाते है जिससे अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। वही पत्नी रुना देवी गांव में मजदूरी करके एक टाइम की रोटी की व्यवस्था में लगी रहती है।

विध्याचल यादव के दो लड़के है। आर्थिक तंगी से परेशान विध्याचल यादव का कहना है कि गर्मी तो किसी तरह कट जाता है लेकिन ठंड में रात होते ही सवेरा होने का इंतजार करना पड़ता है क्योंकि तिरपाल से पूरे परिवार का रहना मुश्किल हो जाता है। पीड़ित विंध्याचल ने बताया कि बरसात के मौसम में परिवार को काफी कठिनाइयों झेलनी पड़ती है। बरसात का पानी घर में घुस जाता है एवं कीड़े मकोड़ों का घुसने का डर रहता है। लेकिन आवास के लिए बार-बार आवेदन करने के बावजूद भी उनका नाम अपात्र सूची में डाल दिया जाता है जिससे वह परेशान होकर अब आवास की उम्मीदें छोड़ ही दिए हैं।

पीड़ित विंध्याचल यादव ने जिलाधिकारी, मण्डलायुक्त, मुख्यमंत्री को लिखित प्रार्थना पत्र देकर रोजगार सेवक व सिक्रेटी पर धन उगाही का आरोप लगाया है। तथा अपात्रो से पैसा लेकर पात्र सूची मे नाम डालने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने सूची को पुनः जांच कर अपात्रों का नाम काट कर पात्रों को आवास दिलाने की मांग की है।

इस संम्बध में सेक्रेटरी साकेत बिहारी पटेल ने कहा कि सारे आरोप बेबुनियाद है। आवास की जांच जारी है जो लोग इसके पात्र हैं तो उनको जल्द ही सूची में नाम शामिल कर आवास मुहैया करवाया जाएगा।