Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सिसवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में बिना पैसे लिए मरीज को डिस्चार्ज करने से किया गया मना।

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

सिसवा:- सिसवा के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में धड़ल्ले से चल रहा है घूसखोरी और मरीजों के साथ किया जा रहा है दुर्व्यवहार। मामला प्रकाश में तब आया जब सिसवा क्षेत्र के ग्राम सभा बगही के एक महिला को डिलेवरी के लिए भर्ती कराया गया था जिससे एक बच्ची का जन्म हुआ और डिस्चार्ज के टाईम डिस्चार्ज करने के लिए पैसे की मांग की गई। जब तक पैसा नही दिया गया तब तक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के स्टाफ ने मरीज को डिस्चार्ज नही किया।

अगर मरीजों को सिसवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर घूस देकर ही भर्ती करना पड़े और घूस देकर डिस्चार्ज करवाना है तो इस सरकारी अस्पताल की क्या जरूरत है। आखिर किसके सह पर सिसवा सामुदायिक केंद्र में धड़ल्ले से चल रहा है घूसखोरी का खेल।

आखिर इस अस्पताल में मरीज अपना इलाज कराने जाए या यहां के स्टाफ का जेब भरने। अगर यही करना है तो सरकारी अस्पताल किस लिए है सिर्फ दिखावे के लिए।

सिसवा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में वहा के नर्सों ने नया रेट लिस्ट जारी कर दिया है सूई लगाने का 20 रूपया और अगर आप मरीज को डिस्चार्ज करवा रहे है तो 500 रूपया लगता है।‌‌‌‌ क्या सरकार सिसवा सामुदायिक केंद्र के कर्मियों को महीने का तनख्वाह कम दे रही है जिससे इनका खर्चा नहीं चल रहा है और गरीब मरीजों को लूटकर अपना ये पेट भर रहे है। आखिर सरकार इस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर इतना पैसा क्यों खर्च रही जब गरीबों को इलाज के लिए पैसा ही देना पड़ रहा है।