Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

पुरानी पेंशन को लेकर दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में देश भर के शिक्षक कर्मचारियों ने संघर्ष का किया ऐलान ।

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

पुरानी पेंशन को लेकर दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में देश भर के शिक्षक कर्मचारियों ने संघर्ष का किया ऐलान ।
-बनाई गई आंदोलन की रणनीति ।
छपरा :  दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में अखिल भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन पुरानी पेंशन को लेकर हुआ । इस अवसर पर पूरे देश से शिक्षक और कर्मचारियों ने केंद्र सरकार की दोहरी आर्थिक नीति के तहत एनपीएस को रद्द करने एवं इपीएस को बहाल करने को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ हुंकार भरी ।इस अवसर पर ऑल इंडिया स्टेट गवर्नमेंट एम्पलाइज फेडरेशन तथा स्टेशन ऑफ सेंट्रल गवर्नमेंट एंप्लाइज एंड वर्कर्स के अंतर्गत सभी कर्मचारी एवं शिक्षकों ने संकल्प लिया कि केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारों के अंतर्गत कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों के हितों की रक्षा करने हेतु समूह संगत को मजबूत प्रदान करेंगे इस मौके पर देश के विभिन्न राज्यों के शिक्षक कर्मचारी प्रतिनिधियों ने पुरानी पेंशन की लड़ाई को हड़ताल बनाने के लिए व्यापक आंदोलन की वकालत की ।वही बिहार राजकीयकृत प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष  उदयशंकर गुड्डू ने सभी शिक्षक कर्मचारियो को संघर्ष को व्यापक रूप  देते हुए नई रणनीति के तहत  आंदोलन के लिए  तैयार  रहने को कहा साथ ही उन्होंने कहा कि सभी केंद्र तथा राज्य
सरकारों के कर्मचारी एवं शिक्षकों का सम्मेलन में आह्वान करता है कि नव उदारवादी साम्प्रदायिक तथा अधिनायक वादी एजेंडे को समाप्त करने के लिये अपनी मांगो को हासिल करने के लिये रणनीति बनाई गई तथा इन सभी मांगो तथा शिक्षकों तक पहुचाने के लिये सारे देश मे हर स्तर तक निम्न वयापक संचालन कार्यक्रम का यह सम्मेलन आह्वान करता है
आंदोलन की बनी नई रणनीति :
1.दिसंबर 2022 संयुक्त समितियां बनाकर जनवरी 2023 के महीने में संयुक्त राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे।
2. बजट 2023 के दौरान संसद पर धरने का कार्यक्रम किया जाएगा
3. स्वतंत्र अभियान उपरोक्त मांगों के ऊपर चलाए जाएंगे 17 फरवरी 2023 में हर सेक्टर में जिला सम्मेलन आयोजित  किये जायेंगे ।
4. मार्च / अप्रैल 2023 में तालुका तहसील स्तर के सम्मेलन आयोजित किए जाए ।
5 मई-जून 2023 में हर कार्यालय तथा स्कूल कॉलज स्तर तक अभियान चलाया जाए।
6. जुलाई-अगस्त 2023 के दौरान राज्यों में वाहन जुलूस निकाले जायेंगे जो हर जिला मुख्यालय तक पहुंचे गा ।
7. सितंबर 2023 में संसद का घेराव  किया जायेंगे ।